नई दिल्ली, NOI : बीती कई दिनों से तेल की कीमतों में कमी देखी जा रही थी लेकिन गुरुवार को इनमें फिर से तेजी देखी गई। तेल की कीमतें लगभग 3 फीसदी चढ़ गईं। यह तब हुआ जब अंतर्राष्ट्रीय ऊर्जा एजेंसी (आईईए) ने कहा कि बाजार में अप्रैल से प्रति दिन 30 लाख बैरल (बीपीडी) रूसी क्रूड और रिफाइंड प्रोडक्ट्स कम हो सकते हैं। आईईए ने बुधवार को एक रिपोर्ट में कहा कि ईंधन की ऊंची कीमतों के कारण मांग में प्रतिदिन दस लाख बैरल की अपेक्षित गिरावट से कहीं अधिक आपूर्ति में कमी आएगी।

लगातार तीन कारोबारी सत्रों में गिरावट के बाद बेंचमार्क ब्रेंट क्रूड फ्यूचर्स 3 डॉलर या 3.1% बढ़कर 101.09 डॉलर प्रति बैरल (0844 जीएमटी) हो गया। यूएस वेस्ट टेक्सस इंटरमीडिएट (डब्ल्यूटीआई) क्रूड 2.8 डॉलर या 3% बढ़कर 97.84 डॉलर प्रति बैरल हो गया। अमेरिकी कच्चे तेल के भंडार में अप्रत्याशित उछाल और रूस-यूक्रेन शांति वार्ता में प्रगति के संकेतों के बाद, दोनों अनुबंध पिछले दिन कम पर बंद हुए थे।

गुओताई जुनान फ्यूचर्स कंपनी के प्रमुख शोधकर्ता वांग जिओ ने कहा, "भू-राजनीतिक गिरावट के बीच व्यापार करने के लिए बाजार का उत्साह कम हो रहा है। यह विभिन्न कारकों का पुनर्मूल्यांकन करने का समय है।" अमेरिकी ऊर्जा सूचना प्रशासन के अनुसार, संयुक्त राज्य अमेरिका में तेल का भंडार सप्ताह में 4.3 मिलियन बैरल बढ़कर 11 मार्च तक 415.9 मिलियन बैरल हो गया। ऐसे में पिछले सत्र में कीमतों में गिरावट आई थी।

OANDA के एक वरिष्ठ बाजार विश्लेषक एडवर्ड मोया ने एक नोट में लिखा है कि 'रूसी तेल का स्विंग करना और कच्चे तेल की खराब मांग और अनिश्चितता ऊर्जा बाजारों को बेचैन कर देगी।' चीन द्वारा वित्तीय बाजारों और आर्थिक विकास को बढ़ावा देने के लिए नीतियों का वादा करने के बाद बाजार की धारणा कुछ हद तक बढ़ी है।

वहीं, चीन में नए COVID-19 मामलों में गिरावट ने उम्मीदों को बल दिया कि यात्रा प्रतिबंध हटाए जा सकते हैं और कारखानों को लॉकडाउन वाले शहरों में उत्पादन फिर से शुरू करने की अनुमति दी जा सकती है। तेल की कीमतों पर इसका भी प्रभाव हो सकता है।

0 Comments

Leave A Comment

Don’t worry ! Your email address will not be published. Required fields are marked (*).

LIVE अपडेट

Get Newsletter

Advertisement